#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

उलझनों और कश्मकश में.. उम्मीद की ढाल लिए बैठा हूँ..!

ए जिंदगी! तेरी हर चाल के लिए.. मैं दो चाल लिए बैठा हूँ ...!!


लुत्फ़ उठा रहा हूँ मैं भी आँख - मिचोली का.!

मिलेगी कामयाबी, हौसला कमाल का लिए बैठा हूँ ....!! 


चल मान लिया.. दो-चार दिन नहीं मेरे मुताबिक.!

गिरेबान में अपने, ये सुनहरा साल लिए बैठा हूँ ..!!


ये गहराइयां, ये लहरें, ये तूफां, तुम्हे मुबारक.! 

मुझे क्या फ़िक्र. मैं कश्तीया और दोस्त... बेमिसाल लिए बैठा हूँ..!!

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

सुना है आज समंदर को बड़ा गुमान आया है,

उधर ही ले चलो कश्ती जहां तूफान आया है।

*************************************


ख़्वाबों को तो अक्सर हकीकत की ज़मीन पर ही रक्खा है,
ये बदबख्त अरमान चले गए आसमानों की दहलीज़ परे !!

************************************


 इक ठहरा हुआ खयाल तेरा,
कितने लम्हों को रफ़्तार देता है..  

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

आँधियों ने लाख बढ़ाया हौसला धूल का,

दो बूँद बारिश ने औकात बता दी !

 ************************************ 


अभी तो बस इश्क़ हुआ है,

मंजिल तो मयखाने में मिलेगी

 ************************************ 


ग़म की दुकान खोल के बैठा हुआ था मैं;

आँसू निकल पड़े हैं ख़रीददार देख कर.!!


#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

  भरे बाजार से अक्सर मैँ खाली हाथ लौट आता हूँ .!

पहले पैसे नहीँ होते थे आजकल ख्वाहिश नहीँ होती..!!

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

 कौन खरीदेगा अब हीरो के दाम में तुम्हारे आँसु,
वो जो दर्द का सौदागर था, मोहब्बत छोड़ दी उसने ! 

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

 तेरी चाहत ने अगर मुझको न मारा होता,
मैं ज़माने में किसी से भी न हारा होता…. 

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

 रंग तेरी महोब्बत का, उतर न पाया अब तक…….!!
लाख बार खुद को, आँसुओं से धोया मैंने……….. 

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

 हारा हुआ सा लगता है वजूद मेरा,
हर एक ने लूटा है दिल का वास्ता देकर.. 

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

 क़तल ऐसा हुआ टुकड़ो में मेरा
कभी बदले खंजर तो कभी क़ातिल बदल गए 

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

 मुझसे मेरे गुनाहो का हिसाब ना मांग मेरे खुदा
मेरी तकदीर लिखने में कलम तेरी ही चली है 

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

 किसी को घर से निकलते ही मिल गई मंज़िल,
कोई हमारी तरह उम्र भर सफ़र में रहा। 

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

 कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी,
सदियों रहा है दुश्मन दौर-ए-ज़माँ हमारा। 

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

जब मिलो तो किसी से जरा दूर का रिस्ता रखना,

बहुत तड़पते है अक्सर सीने से लगाने वाले ..!!

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

मसला तो सिर्फ एहसासों का है, जनाब... रिश्ते तो बिना मिले भी सदियां गुजार देते हैं 

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

बेफिक्र सा था बालो की सफेदी देखकर ,नींद उड़ा दी किसी ने अच्छे लगते हो कहकर ..!!

                                राजेश पोरवाल 

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

रिक्वेस्ट फ्रेंड अनफ्रेंड और ब्लॉक ये सेब नए चोचले है मैंने तो आज भी पुरानी किताब मै उसके मुझाये फूल संभाले है 

                                                करन

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

इलज़ाम मुझ पर इतने संगीन है की 

बरी होके भी बेगुनाह नहीं रहूँगा मै 

बस कुछ दिनों की बात है ज़िंदगी 

फिर तेरा खिलौना नहीं रहूँगा मै "

      ---ख्वाब 

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

बिछड़ गया है उसका असर क्यों नहीं जाता .!

कब से ठहरा है जहन मे,उतर क्यों नहीं जाता ..!!

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

यकीन मानिये अब यकीन भी यकीन के लायक नहीं 

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

इलज़ाम मुझ पर इतने संगीन है की 

बरी होके भी बेगुनाह नहीं रहूँगा मै 

बस कुछ दिनों की बात है ज़िंदगी 

फिर तेरा खिलौना नहीं रहूँगा मै "

      ---ख्वाब 

#EkNazariya #Shayari #Sher #Poem #Hindi Shayari @EkNazariya @Shayari

बिछड़ गया है उसका असर क्यों नहीं जाता .!

कब से ठहरा है जहन मे,उतर क्यों नहीं जाता ..!!